0
Picture credit : Internet
 खिड़की खोला तो देखा
बाहर रिमझिम बारिस हो रही थी
तो सोचा क्यू ना आज कुछ बूँदों को
हाथो मै समेत लू
क्यू ना आज फिर काग़ज़ की नाव
Picture Credit : Internet
इस धार मै बहा लू
क्यू ना एक बार फिर उस बचपन को
जी लू
वो बचपन जो बस अब एक एहसास है
वो एहसास जो अब इतना खास है
जब भी छुआ है इसने मुझको
हर बार बस एक नमी भरी मुस्कान है


P:S :- The first Hindi Poem I wrote and despite of so many error and flaws i am shamelessly Publishing it :) 

Post a Comment Blogger 0

 
Top